राजस्थान के जिले और संभाग

राजस्थान के जिले और संभाग

राजस्थान के जिले और संभाग

राजस्थान के जिले और संभाग के बारे में इस POST के बारे में जाने और राजस्थान से जुड़े अन्य महत्त्वपूर्ण प्रश्न भी जानने को मिलेंगे जो परीक्षा की दृष्टि से बहुत महत्त्वपूर्ण है

राजस्थान के जिले

  • यह अपने वर्तमान स्वरूप में 1 नवंम्बर 1956 को आया।
  • इस समय राजस्थान में कुल 26 जिले थे।
  • 26 वां जिला-अजमेर-1 नवंम्बर, 1956
  • 27 वां जिला-धौलपुर-15 अप्रैल, 1982, यह भरतपुर से अलग होकर नया जिला बना।
  • 28 वां जिला- बांरा-10 अप्रैल, 1991, यह कोटा से अलग होकर नया जिला बना।
  • 29 वां जिला-दौसा-10 अप्रैल,1991, यह जयपुर से अलग होकर नया जिला बना।
  • 30 वां जिला- राजसंमद-10 अप्रैल, 1991, यह उदयपुर से अलग होकर नया जिला बना।
  • 31 वां जिला-हनुमानगढ़-12 जुलाई, 1994, यह श्री गंगानगर से अलग होकर नया जिला बना।
  • 32 वां जिला -करौली 19 जुलाई, 1997, यह सवाई माधोपुर से अलग होकर नया जिला बना।
  • 33 वां जिला-प्रतापगढ़-26 जनवरी,2008, यह तीन जिलों से अलग होकर नया जिला बना।
  • चित्तौडगढ़- छोटी सादडी, आरनोद,प्रतापगढ़ तहसील /उदयपुर-धारियाबाद तहसील/बांसवाडा- पीपलखुट तहसील
  • प्रतापगढ जिला परमेशचन्द कमेटी की सिफारिश पर बनाया गया। प्रतापगढ जिले ने अपना कार्य 1 अप्रैल, 2008 से शुरू किया। प्रतापगढ़ को प्राचीन काल में कांठल व देवला/देवलीया के नाम से जाना जाता था।

राजस्थान के जिले और संभाग Facts

  • कांठल का ताजमहल – काका साहब की दरगाह।
  • कांठल की गंगा – माही नदी।
  • राजस्थान का सबसे बड़ा जिला – जैसलमेर(38401 वर्ग किमी.)।
  • जैसलमेर भारत का तीसरा सबसे बड़ा जिला है।
    सबसे बड़ा जिला गुजरात का कच्छ(45,612 वर्ग किमी.) जिला है।
    दुसरा सबसे बड़ा जिला जम्मू-कश्मीर का लेह जिला है।
  • राजस्थान का सबसे छोटा जिला – धौलपुर(3033 वर्ग किमी.)।
  • जैसलमेर, धौलपुर से 12.66 गुणा बड़ा है।
  • भारत का सबसे छोटा जिला पांडुचेरी का माहे(9 वर्ग किमी.) जिला है।
  • 2011 की जनगणना की दृष्टि से जयपुर(66.26 लाख) सबसे बड़ा जिला है। वहीं जैसलमेर(6.69 लाख) सबसे छोटा जिला है।

राजस्थान के जिलों की आकृतियां

  • सीकर – प्यालाकार/अर्द्धचंद्राकार
  • जैसलमेर – अनियमित बहुभुज
  • जोधपुर – ऑस्ट्रेलिया/मयूराकार
  • बाड़मेर – अलगभ भारत जैसा
  • दौसा – धनुषाकार
  • करौली – बतखाकार
  • टोंक – पतंगाकार/चतुर्भुजाकार
  • अजमेर – त्रिभुजाकार
  • भीलवाड़ा – लगभग आयताकार
  • चित्तौड़ – घोड़ की नाल सदृश्य

राजस्थान के जिलों के पुराने नाम

  1. जांगल प्रदेश – बीकानेर और जोधपुर का उत्तरी भाग
  2. यौध्देय – हनुमानगढ़ और गंगानगर के आस-पास का क्षेत्र
  3. शूरसेन – भरतपुर धौलपुर करौली
  4. गिरवा – उदयपुर व आस पास की पहाड़ियों से घिरा हुआ क्षेत्र
  5. गोडवाड़ – दक्षिणी पूर्वी बाड़मेर जालौर व पक्षिमी सिरोही
  6. अहिछत्रपुर – नागौर
  7. राठ – अलवर जिले का हरियाणा से लगा हुआ क्षेत्र
  8. ऊपरमाल – भीलबाड़ा व चितोड़गढ़ का पठारी भाग जो ऊपरमाल के पठार से जाना जाता है
  9. कांठल देवलिया – प्रतापगढ़ व
  10. शेखावाटी – चूरू सीकर व झुंझुनू का क्षेत्र
  11. भोरट का पठारी क्षेत्र – उदयपुर जिले गोमुण्डा व राजसमन्द की कुंबलगढ तहसील
  12. मेरवाड़ा – अजमेर व राजसमंद जिले का दिवेर क्षेत्र
  13. खैराड़ एवं मलखेड़ा – भीलवाड़ा जिले की जहाजपुर तहसील व अधिकांश टोंक जिला
  14. मतस्य क्षेत्र – अलवर धौलपुर भरतपुर व करौली
  15. ढूंढाड़ – जयपुर व आस पास का क्षेत्र
  16. मांड या  वललभ देश – जैसलमेर
  17. वागड़ या वाग्वर – डुंगरपुर बांसवाड़ा प्रतापगड का क्षेत्र
  18. आबुर्द व चंद्रावती – सिरोही व आबू के आस पास का क्षेत्र
  19. मरुवार या मारवाड़ – जोधपुर के आस पास का क्षेत्र
  20. मेवल – डुंगरपुर बांसवाड़ा के मध्य का क्षेत्र का क्षेत्र
  21. मेवात – अलवर व आस पास का क्षेत्र
  22. तोरावाटी – शेखावाटी में कांतली नदी का अपवाह क्षेत्र जहाँ प्रारम्भ में तँवर ( तोमर ) वंशीय शासको का अधिपत्य रहा था
  23. हाड़ोती – कोटा झालावाड़ बूंदी बांरा
  24. बांगड़ / वांगर – पाली नागौर सीकर व झुंझुन का कुढा भाग
  25. भोमट क्षेत्र – डूंगरपुर पूर्वी सिरोही व उदयपुर जिले का अरावली पर्वतीय आदिवासी प्रदेश
  26. कुरु क्षेत्र – अलवर राज्य का उतरी भाग
  27. थली ( उतरी मरूभूमि ) – बीकानेर चूरू का अधिकांश भाग एवं दक्षिणी गंगानगर की मरुभूमि
  28. शिवि मेदपाट मेवाड़ – उदयपुर चितोड़गढ़ ( इस क्षेत्र का प्राचीन कल में प्राग्वाट भी कहते थे )
  29. माल – दक्षिणी पूर्वी पठारी प्रदेश
  30. साल्व देश – अलवर का इलाका
  31. मालाणी – बाड़मेर जालोर का क्षेत्र
  32. मालव देश – प्रतापगढ़ झालावाड़
  33. डांगक्षेत्र – धौलपुर करौली व सवाई माधोपुर का कुछ क्षेत्र
  34. मेरु – अरावली पर्वतीय प्रदेश
  35. गुर्जरत्रा – जोधपुर का दक्षिणी भाग ( मण्डोर )
  36. देशहरो – जरगा व राग पर्वतों के आस पास का क्षेत्र

राजस्थान के जिले और संभाग के बारे में महत्त्वपुर्ण बाते

  • राजस्थान का गंगानगर शहर पहले एक बड़ा गांव हुआ करता था रामगनगर।
  • जनसंख्या की दृष्टि से सबसे बड़ा जिला जयपुर(66.63 लाख) एवं सबसे छोटा जिला जैसलमेर(6.72 लाख) है।
  • राज्य का सबसे बड़ा नगर जयपुर एवं सबसे छोटा नगर बोरखेड़ा(बांसवाड़ा) है।
  • जैसलमेर जिले को सात दिशाओं वाले बहुभुज की संज्ञा दि है।
  • सीकर जिले की आकृति अर्द्धचन्द्र या प्याले के समान है।
  • टोंक जिले की आकृति पतंगाकार मानी गई है।
  • अजमेर जिले की आकृति त्रिभुजाकार मानी गई है।
  • चित्तौड़गढ़ जिले की आकृति घोड़े के नाल के समान है।
  • राजस्थान के दो खंण्डित जिले हैं-1. अजमेर – टाॅडगढ़ 2. चित्तौड़गढ़ – रावतभाटा

राजस्थान के संभाग

  • देश को बेहतर ढंग से चलाने के लिए और व्यवस्था को बेहतर बनाये रखने के लिए देश को राज्यों में बांटा जाता है। फिर राज्यों को जिलों में बांटा जाता है।
  • राजस्थान में राज्य और जिलों के बीच संभाग है।
  • कई जिलों को जोड़ कर संभाग बनाया जाता है।

राजस्थान में वर्तमान में 7 संभाग हैं।

  • जयपुर संभाग– जयपुर, दौसा, सीकर, अलवर, झुंझुनू
  • जोधपुर संभाग– जोधपुर, जालौर, पाली, बाड़मेर, सिरोही, जैसलमेर
  • भरतपुर संभाग– भरतपुर, धौलपुर, करौली, सवाईमाधोपुर
  • अजमेर संभाग– अजमेर, भीलवाड़ा, टोंक, नागौर
  • कोटा संभाग– कोटा, बुंदी, बांरा, झालावाड़
  • बीकानेर संभाग– बीकानेर, गंगानगर, हनुमानगढ़, चुरू
  • उदयपुर संभाग– उदयपुर, राजसंमद, डूंगरपुर, बांसवाड़ा,चित्तौड़गढ़, प्रतापगढ़

राजस्थान के जिले और संभाग व्यवस्था की शुरूआत 1949 में हीरालाल शास्त्री सरकार द्वारा की गई।अप्रैल, 1962 में मोहनलाल सुखाडि़या सरकार के द्वारा संभागीय व्यवस्था को समाप्त कर दिया गया। 15 जनवरी, 1987 में हरि देव जोशी सरकार के द्वारा संभागीय व्यवस्था की शुरूआत दुबारा की गई।

1987 में राजस्थान का छठा संभाग अजमेर को बनाया गया।यह जयपुर संभाग से अलग होकर नया संभाग बना। 4 जुन, 2005 को राजस्थान का 7 वां संभाग भरतपुर को बनाया गया।

राजस्थान के जिले और संभाग

जयपुर

  • जिले – जयपुर, दौसा, सीकर, अलवर, झुंझुनूं(5 जिले – Trick : जय दोसी अंझू की)
  • क्षेत्रफल – 36,615 वर्ग किमी.
  • जनसंख्या – सर्वाधिक
  • सबसे अधिक घनत्व
  • सर्वाधिक अनुसूचति जाति प्रतिशत जनसंख्या
  • सर्वाधिक साक्षरता – 72.99

जोधपुर

  • जिले – जोधपुर , बाड़मेर, पाली, जालौर, सिरोही, जैसलमेर(6 जिले – Trick : जद बाप जासी जैसलमेर)
  • क्षेत्रफल – 1,17,800 वर्ग किमी.
  • सर्वाधिक क्षेत्रफल
  • सर्वाधिक दशकीय वृद्धि दर
  • सबसे कम साक्षरता – 59.57
  • सर्वाधिक अन्तर्राष्ट्रीय सीमा
  • अन्तर्राष्ट्रीय/अन्तर्राज्यीय सीमा पर क्षेत्रफल में बड़ा
  • अन्तर्राष्ट्रीय/अन्तर्राज्यीय सीमा से दुर सम्भागीय मुख्यालय

बीकानेर

  • जिले – बीकानेर, चूरू, गंगानगर, हनुमानगढ़(4 जिले – Trick : बीका जी चंगा है)
  • क्षेत्रफल – 64,708 वर्ग किमी.
  • सर्वाधिक अनुसूचित जाति जनसंख्या
  • न्युनतम अन्तर्राष्ट्रीय सीमा
  • अन्तर्राष्ट्रीय सीमा के नजदीक संम्भागीय मुख्यालय
  • अन्तर्राष्ट्रीय सीमा पर क्षेत्रफल में छोटा संभाग
  • सबसे कम नदियों वाला संभाग(बीकानेर व चुरू जिले में कोई नदी नहीं बहती है)

अजमेर

  • जिले – अजमेर, भीलवाड़ा, नागौर, टोंक(4 जिले – Trick : अभी नाटो)
  • क्षेत्रफल – 43,848 वर्ग किमी.
  • राजस्थान का मध्यवर्ती संभाग
  • न्युनतम अन्तर्राज्यीय सीमा
  • सभी 6 संभागों की सीमा से लगने वाला संभाग

उदयपुर

  • जिले – उदयपुर, चित्तौड़गढ़, राजसमंद, डूंगरपुर, बांसवाड़ा, प्रतापगढ़(6 जिले – Trick : उचित राजा का डुबा प्रताप)
  • क्षेत्रफल – 36, 942 वर्ग किमी.
  • सर्वाधिक अनुसूचित जनजाति
  • सबसे अधिक लिंगानुपात
  • सर्वाधिक अन्तर्राज्यीय सीमा
  • दो बार अन्तर्राज्यीय सीमा बनाने वाला संभाग

कोटा

  • जिले – कोटा, झालावाड़, बारां, बूंदी(4 जिले – Trick : कोझा बाबू)
  • क्षेत्रफल – 24,204 वर्ग किमी.
  • न्यूनतम जनसंख्या
  • सर्वाधिक नदियों वाला संभाग(नदियों वाला जिला- चित्तौड़गढ़)

भरतपुर

  • जिले – भरतपुर, सवाई माधोपुर, करौली, धाौलपुर(4 जिले – Trick : भर मां की धोक)
  • क्षेत्रफल – 18,122 वर्ग किमी.
  • 4 जुन, 2005 को राजस्थान का 7 वां संभाग भरतपुर को बनाया गया।
  • भरतपुर संभाग दो संभागों से अलग होकर बना जो निम्न है।
  • जयपुर संभाग से भरतपुर व धौलपुर लिये गये तथा कोटा संभाग से सवाई माधोपुर व करौली लिये गये।
  • अन्तर्राज्यीय सीमा के नजदीक संभागीय मुख्यालय

अन्तर्राष्ट्रीय सीमा

  • अन्तर्राष्ट्रीय सीमा बनाने वाले संभाग- बीकानेर व जोधपुर
  • सर्वाधिक अन्तर्राष्ट्रीय सीमा बनाने वाला संभाग- जोधपुर
  • न्युनतम अन्तर्राष्ट्रीय सीमा बनाने वाला संभाग-बीकानेर
  • अन्तर्राष्ट्रीय सीमा के नजदीक संम्भागीय मुख्यालय-बीकानेर
  • अन्तर्राष्ट्रीय सीमा से दुर सम्भागीय मुख्यालय –जोधपुर
  • अन्तर्राष्ट्रीय सीमा पर क्षेत्रफल में बड़ा संभाग- जोधपुर
  • अन्तर्राष्ट्रीय सीमा पर क्षेत्रफल में छोटा संभाग- बीकानेर

अन्तर्राज्यीय सीमा

  • अन्तर्राज्यीय सीमा बनाने वाले संभाग-सात
  • सर्वाधिक अन्तर्राज्यीय सीमा बनाने वाला सम्भाग- उदयपुर
  • न्युनतम अन्तर्राज्यीय सीमा सीमा बनाने वाला संभाग- अजमेर
  • अन्तर्राज्यीय सीमा के नजदीक संभागीय मुख्यालय- भरतपुर
  • अन्तर्राज्यीय सीमा से दुर संभागीय मुख्यालय- जोधपुर
  • अन्तर्राज्यीय सीमा पर क्षेत्रफल में बड़ा संभाग –जोधपुर
  • अन्तर्राज्यीय सीमा पर क्षेत्रफल में छोटा संभाग- भरतपुर
  • दो बार अन्तर्राज्यीय सीमा बनाने वाला संभाग- उदयपुर(चित्तौड़गढ़ के दो भाग)
  • राजस्थान का मध्यवर्ती संभाग- अजमेर
  • सभी 6 संभागों की सीमा से लगने वाला संभाग-अजमेर
  • सर्वाधिक नदियों वाला संभाग-कोटा(नदियों वाला जिला- चित्तौड़गढ़)
  • सबसे कम नदियों संभाग- बीकानेर(बीकानेर व चुरू जिले में कोई नदी नहीं बहती है)
  • वर्तमान में राजस्थान में 6 जिलों वाले 2संभाग(जोधपुर व उदयपुर) है तथा 5 जिलों वाला संभाग एक जयपुर है।तथा 4 जिलों वाले 4 संभाग(बीकानेर, कोटा, भरतपुर, अजमेर) है।
  • 4 जुन, 2005 से पुर्व 7 जिलों वाला संभाग- जयपुर, 6जिलों वाला संभाग- जोधपुर व कोटा,5 जिलों वाला संभाग उदयपुर, 4जिलों वाला संभाग 2(बीकानेर व अजमेर) थे।

राजस्थान के बारे में महत्त्वपुर्ण वार्ता

  1. राज्य के प्रथम मनोनीत मुख्यमंत्री – हिरा लाल शाश्त्री (1949-1951)।
  2. राजस्थान के पहले आम चुनाव कब हुए – जनवरी 1952।
  3. पहले आम चुनाव में विधानसभा में कितनी सीटे थी –160 सीटे थी ।
  4. विधान सभा की पहली बैठक कब और कहाँ हुई – 29 मार्च 1952 को सवाई मानसिंह टाउन हाल में ।
  5. प्रथम राजस्थान विधान सभा (1952-1957) का उद्घाटन 31 मार्च 1952 को हुआ।
  6. राज्य के प्रथम निर्वाचित मुख्यमंत्री – टिकाराम पालीवाल (1952)।
  7. सर्वाधिक मुख्यमंत्री रहने का रिकोर्ड – मोहनलाल सुखाडिया (17 वर्ष ) ।
  8. आधुनिक राजस्थान का निर्माता – मोहनलाल सुखाडिया ।
  9. सबसे कम अवधि तक मुख्यमंत्री रहने वाले नेता – हीरालाल देवपुरा (16 दिन )।
  10. राजस्थान में अनुसूचित जाती के पहले मुख्यमंत्री – जगन्नाथ पहाड़िया (भुसावर -भरतपुर )।
  11. नया विधान सभा भवन कब बनाया गया – 2001 में ।
  12. इसमें किन स्थानों के पत्थरो का उपयोग किया गया है – जोधपुर और करोली के पत्थरों का ।
  13. राजस्थान के उस महाराजा का नाम बताओ जो स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद भी राजप्रमुख रहा – सवाई मानसिंह (1949-1956)।

महत्वपूर्ण प्रश्न

  1. राजस्थान दिवस मनाया जाता है ? – 30 मार्च
  2. मतस्य संघ का प्रशासन राजस्थान को हस्तांतरित करने का निर्णय लिया गया ? – सन 1949 में ( 15 मई 1949 को जब मत्स्य संघ का विलय संयक्त वृहत राजस्थान में किया गया।)
  3. राजपूताना के भोगोलिक क्षेत्र को राजस्थान नाम दिया गया ? – 1 नवम्बर 1956
  4. वृहत राजस्थान के प्रधान मंत्री थे ? – हीरालाल शास्त्री
  5. कितनी रियासतों और ठिकानो के एकीकरण से राजस्थान क़ा निर्माण हुआ ? – 19 रियासते और 3 ठिकाने।
  6. 1527 इ में महाराणा सांगा व् बाबर के मध्य खानवा का यूद्ध किस जिले में हुआ ? – भरतपुर।
  7. दिबेर के यूद्ध (अक्टू- 1582) के पश्चात महाराणा प्रताप की राजधानी कहाँ थी? – चावंड।
  8. मेवाड के इतिहास में किस सेविका ने राजकुमार को बचाने के लिए अपने बच्चे की कुरबानी दी ? – पन्नाधाय।
  9. अजैयराज चोहान संस्थापक थे ? – अजमेर के।
  10. महाराणा प्रताप का राज्याभिषेक कहाँ हुआ ? – गोगुन्दा में।
  11. आदिवराह की उपाधि किस राजपूत शाशक ने धारण की? – मिहिरभोज प्रथम (यह गुर्जर प्रतिहार वंश का था )।
  12. यूद्ध भूमि में जाते समय अपने पति द्वारा निशानी मागने पर किस रानी ने अपना शीश काटकर भेंट कर दिया? – हाडी रानी।
  13. राजपूतों के किस वंश ने जयपुर पर शाशन किया ? – कच्छवाहा।
  14. ताम्र नगरी सभ्यता कहलाती थी ? – आह्ड की सभ्यता।
  15. कालीबंगा कंहा स्थित है ? – हनुमानगढ़।
  16. मोर्य सभ्यता के प्रमाण किस स्थान पर मिले है? – विराटनगर जयपुर।
  17. प्राक सिन्धु सभ्यता व् सिन्धु सभ्यता के अवशेष कहाँ से प्राप्त हुए है ? – कालीबंगा से
  18. प्राचीन हड़प्पा स्तरों में एक ही खेत में साथ साथ दो फसलों को उगाने का साक्ष्य प्राप्त हुआ है ? – कालीबंगा से।
  19. राजस्थान में बोद्ध संस्कृति के अवशेष कहाँ मिलते है ? – विराटनगर जयपुर।
  20. राजस्थान में बोद्ध धर्म के मठ कहाँ मिले है ? – विराट नगर जयपुर।
  21. राजस्थान का अभिलेखागार कहाँ स्थित है ? – बीकानेर।
  22. अनाल्स एंड एंटीक्विटिस ऑफ़ राजस्थान किसने लिखी थी ? – कर्नल जेम्स टॉड ने।
  23. जेम्स टोड कहाँ के पोलिटिकल एजेंट थे ? – पश्चिमी राजस्थान स्टेट का।
  24. 1567-1568 इ में चित्तोड़ के मुग़ल घेरे के दोरान दो राजपूत सामंतों ने दुर्ग की रक्षा करते हुए अपने प्राण त्याग दिए ? – जयमल, पत्ता।
  25. हल्दी घांटी युद्ध में एक मात्र मुस्लिम सरदार जो महाराणा प्रताप के साथ था ? – हाकिम खां सूरी।
  26. मेवाड़ प्रजामंडल की स्थापना किसने की – माणिक्य लाल वर्मा।
  27. राजपूताना के किस राजघराने ने प्रजामंडल को संरक्षण दे रखा था – झालावाड।
  28. राजस्थान के किस क्षेत्र ने कृषक आन्दोलन प्रारंभ करने में पहल की – मेवाड़।
  29. बिजोलिया किसान आन्दोलन के प्रणेता कोन थे – साधू सीताराम दास।

Post Your Comment Here

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected by GKguruji !!