राजस्थान के प्रमुख साहित्यकार और उनकी रचनाएँ -

राजस्थान के प्रमुख साहित्यकार और उनकी रचनाएँ

राजस्थान के प्रमुख साहित्यकार और उनकी रचनाएँ सम्बंधित महत्त्वपूर्ण बाते –

राजस्थान के प्रमुख साहित्यकार और उनकी रचनाएँ

राजस्थान के प्रमुख साहित्यकार और उनकी रचनाएँ

1. ख्यात – राजस्थानी साहित्य के इतिहास परक ग्रन्थ, जिनको रचना तत्कालीन शासकों ने अपनी मान मर्यादा एवं वंशावली के चित्रत हेतु करवाई ‘ख्यात‘ कहलाते है । मुहणोत नैणसी री ख्यात, दयालदास को बीकानेर रां राठौड़ा री ख्यात आदि प्रसिद्ध है ।

2. वंशावली :- इस श्रेणी की रचनाओं में राजवंशों की वंशवलियॉ विस्तृत विवरण सहित लिखी गई हे जैसे राठौड़ा री वंशावली, राजपूनों री वंशावली आदि।

3. वात :- वात का अर्थ कथा या कहानी से है । राजस्थान मे ऐतिहासिक, पौराणिक, प्रेम परक एवं काल्पनिक कथानकों पर वात साहित्य अपार है।

4. प्रकाश :- किसी वंश अथवा व्यक्ति विषेष की उपलब्धियॉ या घटना विषेष पर प्रकाष डालने वाली कृतियाँ ‘प्रकाश‘ कहलाती है । राजप्रकाश, पाबू प्रकाश, उदय प्रकाश आदि इनके मुख्य उदाहरण है।

5. वचनिका :- यह एक गद्य-पद्य तुकान्त रचना होती है, जिससे अन्त्यानुप्रास मिलता है राजस्थानी साहित्य में अचलदास खींची री वचनिका एवं राठौड़ रतनसिंह जी महेस दासोत से वचनिका प्रमुख है । वचनिका मुख्यतः अपभ्रंष मिश्रित राजसथानी मे लिखी हुई है ।

6. मरस्या :- राजा या किसी व्यक्ति विषेष को मृत्योपरांत शोक व्यक्त करने के लिए रचित काव्य, जिसमें उसके व्यक्ति के चारित्रिक गुणों के अलावा अन्य क्रिया-कलापों का वर्णन किया जाता है ।

7. दवावैत :– यह उर्दू-फारसी की शब्दावली से युक्त राजस्थानी कलात्मक लेखन शैली है, किसी की प्रशंसा दोहों के रूप में की जाती है ।

8. रासौ :- राजाओं की प्रशंसाओं में लिखे गए काव्य ग्रन्थ जिनमें उनके युद्ध अभियानों व वीरतापुर्ण कत्यों के विवरण के साथ – उनके राजवंश का विवरण भी मिलता है । बीसलदेव रासौ, पृथ्वीराज रासौ आदि मुख्य रासौ ग्रन्थ है

9. वेलि :- राजस्थानी वेलि साहित्य में यहॉ के शासकों एवं सामन्तों की वीरता, इतिहास, विद्वता,उदरता , प्रेम-भावना, स्वामिभक्ति, वंशावली आदि घटनाओं का उल्लेख होता है । पृथ्वीराज राठोड़ लिखित ‘वेलि किसन रूक्मणि री ‘ प्रसिद्ध वेलि ग्रन्थ है ।

10. विगत :- यह भी इतिहास परक ग्रन्थ लेखन की शैली है । ‘मारवाड़ रा परगना री विगत्‘ इस शैली की प्रमुख रचना है ।

राजस्थान के प्रमुख साहित्यकार और उनकी रचनाएँ –

  • जोधराज – हम्मीर रासौ
  • चन्द्रशेखर – हम्मीर हठ
  • नयनचंद सूरी – हम्मीर महाकाव्य
  • अमीर खुसरों – खजाइन-उल-फतुह (रणथंभौर के युद्ध की जानकारी)
  • कवि कल्लौल – ढौला मारू रा दूहा
  • केशवदास गाडण – गजगुणरूपक
  • मलिक मोहम्मद जायसी – पद्मावत
  • पृथ्वीराज राठौड़ – वेलि किसन रूक्मणी री (5वाँ वेद , 19वाँ पुराण ← दुरसा आढ़ा) , गंगा लहरी
  • दुरसा आढ़ा – विरूद्ध छतहरि , किरतार बावनों
  • उद्योतनसूरी – कुवलयमाला
  • शिवदास गाडण – अचलदास खींची री वचनिका
  • सूर्यमल्ल मिश्रण – वंश भास्कर
  • केसरीसिंह बाहरठ – चेतावणी रा चूँगट्या
  • गिरधर आसिया – सगत रासौ
  • महाकवि बिहारी – बिहारी सतसई
  • गौरीशंकर हीराचंद ओझा – राजपुताने का इतिहास
  • गौरीशंकर हीराचंद ओझा – प्रचीन लिपीमाला
  • दलपत विजय – खुमाण रासौ
  • जयानक – पृथ्वीराज विजय
  • मुहणोत नैणसी – मारवाड़ रा परगणा री विगत
  • पद्मनाभ – कान्हदेव प्रबंध , वीरमदेव सोनगरा री बाँत
  • नरपति नाल्ह – बीसलदेव रासौ
  • बीठू सूजा – राव जैतसी रो छंद
  • कविराज श्यामलदास – वीर विनोद
  • दयालदास – बीकानेर रा राठौड़ाँ री ख्यात
  • नरपतिनाल्ह – बीसलदेव रासौ
  • नल्लसिंह – विजयरासौ
  • बाँकीदास – बाँकीदास री ख्यात
  • श्रीधर व्यास – रणमल छंद
  • कान्हा व्यास – एकलिंग महाकाव्य
  • जयसिंह सूरी – हम्मीद मदमर्दन
  • कमलचंद्र – जैन श्रावक प्रतिक्रमण सूत्र चुर्णी (चित्रितग्रंथ)
  • कवि अत्रि और कवि महेश – कीर्ति स्थम्भ प्रशस्ति
  • राणा कुम्भा – रसिकप्रिया(टीका) , संगीत मीमांसा
  • जयदेव – गीत गोविन्द
  • सारंगदेव – संगीत रत्नाकार
  • मण्डन – प्रसाद मण्डन , रूपूण्डन , वास्तुमण्डन , देवमुर्ति प्रकाश , राजवल्लभ
  • बाबर – तुजुक-ए-बाबरी (तुर्की भाषा में लिखी गई बाबर की आत्मकथा)
  • बदाँयूनी – मुन्तख्याब-उल-तत्वरखि (हल्दीघाटी के युद्ध की जानकारी)
  • अबुल्फज़ल – आइन-ए-अकबरी (हल्दीघाटी के युद्ध की जानकारी)
  • मेघराज मुकुल – सैनाणी (चुड़ावत मांगी सैनाणी, सीस काट दे दियों सतराणी)
  • कन्हैयालाल सेठिया – धरती धौरा री , पाथल और पीथल , लीलटांस , सबद , धरमंझला , मिंझर (लीलटांस को राष्ट्रीय साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला)
  • कर्मचंद – कर्मचंद वंशोकीर्तनम् काव्यम्
  • जैता – रायसिंह प्रशस्ति
  • रायसिंह – रायसिंह महोत्सव , ज्योतिष रत्नमाला
  • अब्बाज खाँ सखानी – तारीख-ए-शेरशाही
  • पुण्डरीक विठ्ठल – राजमंजरी , रागचंद्रोदय , नृतन निर्णय
  • सोमदेव – ललित विग्रहराज
  • कवि चन्द्रबरदाई – पृथ्वीराज रासौ (तराईन के 3rd युद्ध की जानकारी)
  • मिन्हाजुद्दीन सिराज – ताबकाज-ए-नासीरी (तराईन के 3rd युद्ध की जानकारी)
  • हसननिजामी – ताज-उल-मासिर (तराईन के 3rd युद्ध की जानकारी)
  • जग्गा खिड़िया – राठौड़ रतनसिंह महेस दासोत री वचनिका
  • रणछोड़दास भट्‌ट – अमरकाव्य वंशावली
  • महाकवि माघ – शिशुपाल वध
  • भट्‌ट सदाशिव – राजविनोद
  • विजयदान देथा – बातां री फुलवारी (लोक कथा)
  • सीताराम लालस – राजस्थानी शब्दकोश
  • मुरलीधर व्यास – राजस्थानी कहावत
  • रांगेय राघव – मुर्दों का टीला
  • हीरालाल शास्त्री – प्रत्यक्ष जीवनशास्त्र
  • अन्नाराम सुदामा – मैयकती काया मुळकती धरती
  • केसरीसिंह बारठ – प्रताप चरित्र
  • राजेन्द्र सिंह राठौड़ – राजस्थान के रणबांकुरे
  • मेरूतुंग – प्रबंध चिंतामणि
  • चन्द्रसिंह – बादली , लू , डफर
  • ईसरदास – हालां झाला री कुण्डलियां

Post Your Comment Here

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected by GKguruji !!